छत्तीसगढ़ी जनउला | CG Janaula with Answer


जनउला - छत्तीसगढ़ी भाषा में पहेली को जनउला (Janaula) कहा जाता है, जनउला का अर्थ हिन्दी में पहेली बुझना होता है। छत्तीसगढ़ राज्य में खाली को समय व्यतीत करने के एक दूसरे से जनउला पूछते है और उसका उत्तर दिया जाता है इस प्रकार से जनउला पूछ कर मनोरंजन किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओ में जनउला से प्रश्न पूछा जाता है जिसके कारण से जनउला एक महत्वपूर्ण टॉपिक है। नीचे कुछ छत्तीसगढ़ी जनउला उत्तर सहित दिया गया है।


छत्तीसगढ़ी जनउला (CG JANAULA) -

1. नानचून टूरा, कूद-कूद के पार बाँधे।
उत्तर - सूजी (सुई)

2. सुक्खा तरिया मा, कोकड़ा फड़फड़ाय।
उत्तर - मुर्रा/लाई 

3. भरे तरिया में टेड़गी रूख।
उत्तर - चिंगरी मछरी

4. एक महल के दू दरवाजा, वहाँ से निकले संभू राजा।
उत्तर - रेमट

5. एक साल मा आवै बावा जोगी, एक टाँग एक टोपी।
उत्तर - पिहरी (मशरूम)

6. फाँदे के बेर एक ठन, ढीले के बेर दू ठन।
उत्तर - दतवन (दातून)

7. आय लूलू जाय लूलू, पानी ले डराय लूलू।
उत्तर - जूता

8. पांच कबूतर पांचों रंग, महल म घुसरे त एक्के रंग।
उत्तर - पान

9. कारी गाय करौंदा खाय, दुहते जाय पनहाते जाय।
उत्तर - कुआँ

10. कोठा में अब्बड़ अकन छेरी, फेर हागे त लेड़ी नहीं।
उत्तर - चांटी

11. तरिया पार में फट-फीट, तेकर गुदा बड़ मिठ।
उत्तर - नरियर

12. चार चंदैनी चालत आवै, सूपा ला हलावत आवै।
उत्तर - हाथी

13. अँउर न मँउर, बिन फोकला के चउँर।
उत्तर - मउहा

14. कारी गाय करौंदा खाय, ढील दी बछरू लंका जाय।
उत्तर - पिस्तौल

15. नानूक टूरा, राजा संग खाय ल बैठे।
उत्तर - माछी (मक्खी)

16. छुए म नरम, ओड़े म गरम, धरे म शरम।
उत्तर - कथरी

17. नानचून बियारा में, खीरा बीजा।
उत्तर - दांत

18. तरी बटलोही उपर डंडा, नइ जानही तेला परही डंडा।
उत्तर - जिमी कांदा

19. सुत उठ के लड़ँगा नाच।
उत्तर - बाहरी (झाड़ू)

20. एकझन कहे संझातिस झन, दूसर कहे पहातिस झन।
उत्तर - दिन-रात

21. एकठन थारी में दु ठन अंडा, एक गरम एक ठंडा।
उत्तर - सुरुज-चंदा

22. काँटे मा कटाय नहीं, भोंगे मा भोंगाय नहीं।
उत्तर - छइयां

23. दूर शहर तोर मइके, गांव-गांव म तोर ससुराल
      गली-गली मा तोर पति खड़े, घर-घर मा परिवार।
उत्तर - बिजली

24. पूछी में पानी पियय, मूँड़ी ललीयाय।
उत्तर - दिया

25. करिया बईला बैठे हे, लाल बईला भागत हे।
उत्तर - आगी (आग)

26. छितका कुरिया मा बाघ गुर्राए।
उत्तर - जांता

27. जरकुल ददा, निरासा दाई।
      फूलमत बहिनी, फोदेला भाई।
उत्तर - कुम्हड़ा

28. डबरा मताय हस, कि करार ओदारे हस।
उत्तर - बासी भात

29. ददा के एक ठन, दाई के दुठन।
उत्तर - गोत्र

30. पाँच भाई नांगर जोते, दस भाई कोप्पर तीरे।
उत्तर - दतवन (दातून)

31. हरियर भाजी, साग में न भात में, खाय बर सुवाद में।
उत्तर - पान

32. कका ल काकी चाबे, काकी ल सब लोग लइका चाबे।
उत्तर - कांड भदरी

33. दुरूग के डोकरी, पाछु डाहर मोटरी।
उत्तर - मेकरा (मकड़ी)

34. चारा के रहत ले चर बोकरा,
      चारा सिरागे त मर बोकरा।
उत्तर - दिया (दीपक)

35. चार चौकड़ी गोल बजार, सोला रानी तीन यार।
उत्तर - पासा

36. पीठ कुबरा पेट चिरहा, नई जानही तेकर चाल किरहा।
उत्तर - कउड़ी

37. थोकिन एला थोकिन ओला, धर बैठेंव तोला।
उत्तर - सील लोढ़िया

38. ओमनाथ के बारी म सोमनाथ काटा।
      अतेक बड़ दुनिया मा एक ठन भांटा।
उत्तर - सूरज

39. दू झन में उचथे, पाव भर न छटाक भर।
उत्तर - झगड़ा

40. तोर घर के जुनना सियान कोन ए।
उत्तर - पाटी

41. बाप लड़ँगा, बेटा पोण्डा, नाती निंधा।
उत्तर - मउहा

42. उपर पचरी नीचे पचरी, बीच में मोंगरी मछरी।
उत्तर - जीभ

43. खोरोर-खोरोर खोर्री, छै आँखि, तीन बोर्री।
उत्तर - नागर-बइला

44. तीन गोड़ के टेटका मेरेर-मेरेर नरियाय।
      पाछू डाहर खुँदे त, आगू डाहर हड़बड़ाय।
उत्तर - ढेंकी

45. बाप अउ बेटा के नाम एके, नाती के नाम औरे,
      ए जनउला ल जानबे, तब मुहँ म डारबे कौंरे।
उत्तर - मउहा

46. नानकुन टूरा, गोटानी असन पेट।
      कहाँ जाथस टूरा, रतनपुर देश।
उत्तर - नरियर (नारियल)

47. दिखे में लाल लाल, छिये में गूज-गूज।
      चाबदिस दाई बड़ जन बूबू।
उत्तर - मिरचा

48. ओमनाथ के बारी म, सोमनाथ के काँटा।
        एक फूल फूले, त पचीस पेंड़ भाँटा।
उत्तर - भसकटिया  

49. एक सींग के बोकरा मेरेर-मेरेर नरीयाय
      मुहु डाहन चारा चरे, पाछु डाहन पघुराय
उत्तर - जाँता

50. पानी भीतर के कमनीन बपरी, लम्बा-लम्बा केंस।
      बारा लइका के महतारी होगे फेर नइ हे पुरूष संग भेंट।
उत्तर - ढुलेना  कांदा

51. सुलुँग सपेटा फुनगी में गाँठ 
       नई जानही तेकर नाक ल काँट।
उत्तर - बाँस

52. नीलकंठ राजा नहीं, चार गोड़ घोड़ा नहीं 
       लाम लँगूर बानर नहीं।
उत्तर - टेटका

53. टेंड़ेग बेंड़ेग बाँसुरी, बजाने वाला कौन।
       भऊजी गेहे मइके, मनानेवाला कौन।
उत्तर - नदिया

54. फूल-फूले रिंगी-चिंगी, फर फरे कटघेरा।
       एक हानी ल जानबे तभे जाबे अपन डेरा।
उत्तर - भसकटिया

55. लाल मुहँ के छोकरी हरियर फीता गंथाय।
      निकले कहुँ बजार में, त हाँथो हाँथ बेचाय।
उत्तर - पताल (टमाटर)

56. तीन गोड़ के तितली, नहा खोर के निकलिस।
उत्तर - समोसा

57. बत्तीस पीपर के एक्केच पत्ता।
उत्तर - दाँत अउ जीभ

58. हमर ममा के नौ सौ गाय रात चरावय दिन बेड़े जाय।
उत्तर - चंदा अउ तारा

59. नांनकन लईका दु कौरा खाय 
      बोडरी ल दबाबे त रस्ता दिखाय।
उत्तर - टॉर्च

60. पूरब दिशा से आइस जोगी एके गोड़ एके टोपी।
उत्तर - पिहरी

61. उचकी घोड़ा म पुचकि लगाम, 
      उहूम बइठय ससुर दमांद।
उत्तर - बाल्टी रस्सी अउ कुंवा

62. नांनकन डिबिया म डिबडाब नई जाने त चुपचाप।
उत्तर - आंखी

63. चकरी रे चकरी ओखर गांठे गांठ म रस 
       नई जानबे त पांच रुपया रख।
उत्तर - जलेबी

64. काटे रुख उल्होवय नही।
उत्तर - नाल

65. बिन मुड़ के राक्षस गंगा देव सराय 
       हाड़ा के तो चिता जलाएव चमड़ा के नहना बनाय।
उत्तर - पटुआ

66. कारी गाय करार म बइठे।
उत्तर - हड़िया 

67. जतके रोय ततके खोय।
उत्तर - मोमबत्ती

68. चार गोड़ धरती चलय, दु गोड़ चलय आकाश
      चार मुड़ एक बिना जीव के, पंडित करौ बिचार।
उत्तर - मुर्दा

69. तोर ददा रहय टेड़गा बेड़गा तोर दाई रहय थारी 
       तोर बहिनी रहय श्याम सुंदरी ओखर फुलगी नाक कारी।
उत्तर - परसा पेड़

70. उरीद उरीद के कोठरी मुंगन देव के गाय
      बिन दूध के बछरू पाछु पाछु जाय।
उत्तर - कूकरी

71. आइठे गोइठे पार म बइठे।
उत्तर - पगड़ी

72. लोदा बइठे फोदा कमावत हे।
उत्तर - घर लीपनि

73. एदे ओदे का ए बता।
उत्तर - नजर

74. लाली बुलावत हे कोकी डरुहावत हे।
उत्तर - बोइर अउ कांटा

75. गरजत आवय घुमरत आवय टोरत आवय लोई
       ए काहनी ल नई जाने त लागय मोर नंदोई।
उत्तर - करा (ओला)

76. 12 महीना के भात हेरे के बेर ताते तात।
उत्तर - घुरवा

77. एक रुख के एक्के पत्ता।
उत्तर - झंडा

78. एक ठन दिया के घर भर भूसा।
उत्तर - चिमनी

79. बइठे बइठे बकबक बाढ़य।
उत्तर - घुरवा

80. छै गोड़ दु पाखी मुड़ ले बड़े आँखि।
उत्तर - माछी

81. डलियन डलियन टुटय बजरियन जाय।
उत्तर - पान पत्ता

82. रामनाथ बारी म जगन्नाथ काटा 
       ओमा फरय 25 ठन भाटा।
उत्तर - केरा

83. एक बित्ता के कोठरी नौ लाख गइया अमाय।
उत्तर - मिर्चा

84. रेंगत रेंगत धरसा परगे खोजे म मिलय न गोबर।
उत्तर - चांटी

85. अरी अउ सरी, लुगरा कस धरि, 
       पांजर म फूल फुलय, माथा म फरी।
उत्तर - जोंधरी

86. रात खड़े दिन पड़े। 
उत्तर - गेरवा

87. टेड़गा बेड़गा रस्ता बीच म कुआँ।
उत्तर - कान

88. रात रोये दिन सोये।
उत्तर - मोमबत्ती

89. बरदी ल उबेर के खरही ल दुहय।
उत्तर - मछेव अउ छाता

90. एक निसयनी के बारा पक्ति।
उत्तर - छाता

91. गोल गोल दिखे म लाल, लुगरा पहिने सौ पचास।
उत्तर - गोंदली

92. फूल फुलय रिंगी-चिंगी, फर फरय लमडोरा।
उत्तर - मुनगा

93. बीच तरिया म, गोबर चोता।
उत्तर - कछुआ

94. एक झन गरीब जेखर पेट म लकीर।
उत्तर - गहुँ

95. एक ठन घर के सुनौ कहानी, करले संगत बनजा ज्ञानी।
उत्तर - पुस्तकालय

96. कस रे पर्री टुरी तोला जर आय हे का, 
      कस रे मेछर्रा टुरा मोला ले जाबे का।
उत्तर - रोटी अउ बिलई

97. हरदी के गोपगाय पीतल के लोटा
      नई जानही एला तेन बेंदरा के बेटा।
उत्तर - बेल

98. नानकन लईका राजा संग, बइठ के भात खाय।
      ओ जूठा ल राजा खाय त, बीमार पड़ जाय।
उत्तर - माछी

99. एक बाई के दु लुगरा, ओहू म ओखर पाछु डहर उघरा।
उत्तर - माछी

100. चार कुंवा बिना पानी के,अट्ठारा चोर एक रानी हे।
उत्तर - कैरम अउ गोली

101. फरय न फुलय सूपा सूपा टूटय।
उत्तर - राख

102. ठुडगा रुख म बूड़गा नाचे।
उत्तर - टंगीया

103. एक चलै चिता के चाल म , दूसरा घोड़ा होय।
         तीसर चलै हाथी के चाल म ,तभो ले सामना होय।
उत्तर - घड़ी

Post a Comment

1 Comments

  1. Lakdi jal ke koyla hois koyla jal ke rakh mai abhagin aise jalev na koyla bane na rakh

    ReplyDelete